Corona

कोरोना को चुपचाप निपटा रहा है दहाड़ने वाला नेता, जानिए कहां हैं अमित शाह ?

कोरोना वायरस से पूरा विश्व परेशान है। कोरोना वायरस को देखते हुए सभी लोग अपने अपने प्रयास में लगे हुए हैं। भारत सरकार प्रदेश सरकार से लेकर आम लोग तक इस लड़ाई में अपना योगदान दे रहे हैं। इसके साथ ही देश के गृह मंत्री अमित शाह जो कि इन दिनों कम दिखाई दे रहे हैं उन्होंने भी जबरदस्त तरीके से इस मोर्चे को संभाला हुआ है। एक और जहां गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय और जी किशन रेड्डी 24 घंटे मंत्रालय में उपस्थित रहते हैं। तो वही अमित शाह भी बिना विशेष लाइमलाइट के अपना काम करते ही जा रहे हैं। अगर अभी तक इतने दिन बाद भी कोरोना वायरस अपने चरम सीमा पर नहीं आ पाया है। तो उस का प्रमुख कारण है पर्दे के पीछे गृह मंत्रालय विशेषकर अमित शाह की सक्रियता जोकि दिन-रात इसमें अपना योगदान दे रहे हैं।

Congress playing petty politics over Covid-19, misleading people ...

आपको बता दें ‘द प्रिंट’ की एक रिपोर्ट के अनुसार, केंद्रीय गृह मंत्री पिछले दस दिनों से दैनिक दिनचर्या के बाद प्रतिदिन ऑफिस आते हैं, और वे अब घर पर एक कंट्रोल रूम के माध्यम से दिशा निर्देश नहीं भेजते। एक विश्वसनीय सूत्र के अनुसार अमित शाह रोजमर्रा के काम से खाली होने के बाद एक मीटिंग लेते है और हर क्षेत्र के समस्याओं का डेली अपडेट पर चर्चा करते हैं। फिर वे साढ़े आठ बजे ऑफिस पहुंच कर अजय भल्ला के साथ बैठक करते हैं।

सच कहें तो यदि भारत का मॉडल कोरोना वायरस से निपटने में सक्षम रहा है। तो उसका पूरा श्रेय गृह मंत्रालय और उनके वर्तमान मंत्रियों को जाता है। गृह मंत्रालय ने हाल ही में निर्णय लिया था कि उनके द्वार सदैव खुले रहेंगे और जी किशन रेड्डी या नित्यानंद राय में से कोई एक व्यक्ति सदैव उपस्थित रहेगा।इसके पीछे प्रमुख कारण है गृह मंत्री अमित शाह की सक्रियता, जिसने सुनिश्चित किया की गृह मंत्रालय कभी भी बंद ना दिखाई दे। सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को साथ लेकर चलना हो, समस्याओं का निवारण करना हो, या फिर उपद्रवियों पर कार्रवाई ही क्यों ना करनी हो, गृह मंत्रालय हमेशा सेवा में उपस्थित दिखी।

RSS to BJP: Give up reliance on Narendra Modi and Amit Shah to win ...

जनसत्ता की रिपोर्ट के अनुसार- जब दिल्ली पुलिस के वर्तमान प्रमुख एसएन श्रीवास्तव ने उन्हें जब हालातों से अवगत कराया, तो अमित शाह ने दो टूक जवाब देते हुए कहा कि स्थिति कैसी भी हो,कार्रवाई नहीं रुकनी चाहिए। मंत्रालय का यह जवाब तब आया जब क्राइम ब्रांच की कुछ टीम घर से ही काम करना शुरू कर चुकी थी,जिसके कारण कई जगह गिरफ्तारियां कम हो गई थी।
इतना ही नहीं,जब भारत की लड़ाई में बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी रोड़ा बनते नजर आई, तो यह अमित शाह ही थे। जिन्होंने मोर्चा संभालते हुए ममता की जमकर धुलाई की। अब राज्य में लॉकडाउन के नियमों को पालन करने के लिए उन्होंने BSF जवानों की तैनाती भी कर दी है, जिससे दीदी काफी नाराज हैं।

लॉक डाउन की सफलता के लिए गृह मंत्रालय की सक्रियता काफी अहम है। कानून व्यवस्था से लेकर आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति तक सभी प्रकार की आवश्यकता हेतु गृह मंत्रालय पूरी तरह तैयार है। इससे एक बार फिर अमित शाह ने सिद्ध कर दिया किं कैसे वे देश को हर प्रकार के संकट से निकालने हेतु प्रतिबद्ध है।

loading...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top